तिरुप्पावै (गोदा देवी जी का दिव्य व्रत)

लक्ष्मीनाथ समारम्भाम नाथ यामुन मध्यमाम|

अस्मद आचार्य पर्यन्ताम, वन्दे गुरु परम्पराम||

श्री विष्णुचित्त कुलनंदन कल्पवल्लिम, श्री रंगराज हरिचंदन योगदृश्यां|

साक्षात् क्षमां करुणया कमलामिवान्यां, गोदाम अनन्यशरण: शरणं प्रपद्ये||

अर्थात: श्री गोदा (आंडाल्) श्री विष्णुचित्त के कुल नंदवन में आविर्भूत कोमल कल्पलता सम सुन्दर कन्या हैं| श्री रंगनाथ रूपी हरिचंदन वृक्ष के योग से अतिलावण्यमयी और मनोहर दिखाई देती हैं| यह मूर्तिमान भूमि देवी हैं और लक्ष्मी देवी के समान क्षमाशील और करुणामयी हैं| निराश्रित मैं उस गोदा देवी की शरण लेता हूँ|

तिरुप्पावै गोदा देवी द्वारा विरचित दिव्य प्रबंध है| तिरुप्पावै की ३० सूक्तियों में समस्त उपनिषद् और शरणागति का अनुष्ठान निहित है|

संस्कृत में गोदा का अर्थ होता है: सुन्दर एवं मधुर शब्द|

तमिल में गोदा का अर्थ होता है: पुष्पमाला|

गोदा यानि आंडाल ने भगवान को दोनों ही अर्पित किया|

व्याकरण और दर्शन के ज्ञान से रहित होने के वावजूद हम युवा श्री वैष्णवों ने गोदा जी की इस दिव्य, अद्भुत दिव्य प्रबंध के हिंदी अनुवाद का संकल्प लिया है| अनुवाद में हमारा अपना कुछ भी नहीं| विभिन्न आचार्यों के कालक्षेप द्वारा जो कुछ सिख और समझ पाया, वही जस का तस भगवद-गोष्ठी को समर्पित कर रहा हूँ:

तनियन

  1. पहला तनियन: https://ramanujramprapnna.blog/2019/03/15/%E0%A4%A4%E0%A4%A8%E0%A4%BF%E0%A4%AF%E0%A4%A8-1/
  2. दूसरा तनियन: https://ramanujramprapnna.blog/2019/03/16/%E0%A4%A4%E0%A4%A8%E0%A4%BF%E0%A4%AF%E0%A4%A8-2/
  3. तीसरा तनियन: https://ramanujramprapnna.blog/2019/03/16/%E0%A4%A4%E0%A4%A8%E0%A4%BF%E0%A4%AF%E0%A4%A8-3/

गोदा जी का दिव्य चरित्र

  1. https://guruparamparaihindi.wordpress.com/2014/12/15/andal/
  2. गोदाम्बा जी का संक्षिप्त जीवन चरित्र :https://ramanujramprapnna.blog/2019/03/17/%E0%A4%97%E0%A5%8B%E0%A4%A6%E0%A4%BE%E0%A4%AE%E0%A5%8D%E0%A4%AC%E0%A4%BE-%E0%A4%9C%E0%A5%80-%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%B8%E0%A4%82%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%B7%E0%A4%BF%E0%A4%AA%E0%A5%8D%E0%A4%A4/

मार्घशीर्ष (धनुर्मास) की विशेषता:

  1. मार्घशीर्ष महीने का वैभव:Link: https://wp.me/p9Ex6B-7w

पासुर:

अनुवाद एवं भावार्थ:

Author: ramanujramprapnna

studying Ramanuj school of Vishishtadvait vedant

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s